Connect with us

Sheikhpura News

लोकआस्था का चार दिवसीय महापर्व छठव्रत आज से शुरु

Published

on

नहाय -खाय के साथ अनुष्ठान का हॉगा शुभारंभ

कोरोना के मदेनजर घर पर ही अर्ध्य के लिए किया जा रहा प्रेरित

छठ घाटों की साफ -सफाई में जुटे नगर परिषद के मजदूर 
छठ के कारण बाजार में 50 से 60 रुपए किलो बिका कद्दू 

शेखपुरा ।(खबर शेखपुरा)।

लोक आस्था का चार दिवसीय छठ महापर्व आज से शुरु हो रहा है। नहाय- खाय के साथ चार दिवसीय अनुष्ठान आरम्भ हो जाएगा। जबकि,वृहस्पतिवार को छठव्रती भगवान सुर्य की उपासना कर खरना करेंगी। शुक्रवार को डूबते सुर्य को पहला अर्ध्य दिया जायगा जबकि,शनिवार को उगते सुर्य को अर्ध्य दिये जाने के साथ ही छठपर्व संपन्न हो जायगा। छठपर्व को लेकर सभी ओर तैयारियां जोरों पर है। जिले में शहर से लेकर गांव तक में लोग छठपर्व के मदेनजर ,नदी ,तालाबों बनाए जाने वाले घाटों की साफ -सफाई की जा रही है। उधर कोरोना के मदेनजर सरकार के निर्देशों के अनुरुप जिला प्रशासन अधिक से अधिक लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए घर में अर्ध्य देने के लिए प्रेरित करने में जुटी है। शहर के रतोइया नदी घाट ,हसंनगंज,अरघौती पोखर ,गिरिहिंडा,एकसारी छठ घाट की साफ-सफाई कराई जा रही है। इसके साथ ही घाटों को छठव्रतियों की सुविधा के मदेनजर मरम्मत का काम किया जा रहा है। घाटों की सफाई के बाद सुखे पड़े घाट में पानी का प्रबंध की किया जा रहा है। वहीं ग्रामीण क्षेत्रों मे भी विभिन्न सामजिक संगठनों के द्वारा नदी तालबों के किनारे बने घाटों की साफ-सफाई की जा रही है।

अधिकारियों के द्वारा भी प्रबंध का जायजा लिया जा रहा है। अरियरी प्रखंड विकास पदाधिकारी संजय कुमार ने मंगलवार को कई घाटों का औचक निरीक्षण किया एवं सफाई कर्मियों को कई निर्देश दिए। 

कोरोना से बचाव को घर में अर्ध्य को दें प्राथमिकता 
कोरोना काल में आयोजित होने वाली छठ पर्व बदले अंदाज में होगी। लोक आस्था का चार दिवसीय छठ पर्व को लेकर अर्ध्य के दौरान नदी,तालाब पर उमड़ने वाली भीड़ को देखते हुए गृह विभाग के सचिव  कई दिशा निर्देश जारी किया है। जिससे  जिसमें स्थानीय छठ पूजा समितियों ,नागरिक इकाईयों,वार्ड पार्षदों,पंचायत स्तरीय जन प्रतिनिधियों एवं गणमान्य लोगों से समन्वय स्थापित कर कोरोना से बचाव के मदेनजर प्रचार -प्रसार का निर्देश दिया गया है।इस दौरान अर्ध्य के समय विभिन्न छठ घाटों नदी,तालबों में भारी भीड़ उमड़ती है। कोरोना काल में इसे देखते हुए अधिक से अधिक भीड़ छठ घाटों पर नही एकत्रित हो इसे देखते हुए लोगों को घर पर ही अर्ध्य देने के लिए प्रेरित करने को कहा गया है। छठ घाटों को सैनिटाइज करने का निर्देश नगर निकाय को दिया गया है। सोशल डिस्टेंस सिंग का पालन करने के साथ ही मास्क पहनने का पालन करने को कहा गया है। घाटों पर किसी भी प्रकार का खाध सामग्री बिक्री का स्टॉल नही लगाया जा सकेगा। सामूहिक रूप से प्रसाद वितरण या भोग वितरण की अनुमति नही होगी। कोरोना के मदेनजर 10 साल से कम उम्र और 60 साल से अधिक आयु के लोगों को छठ घाट जाने से मना किया गया है। किसी भी प्रकार का साँस्कृतिक और जागरण कार्यक्रम की अनुमति नही होगी। 

बाजारों में जमकर हुई खरीददारी 60 रुपए किलो तक बिका कद्दू
बुधवार को नहाय खाय के बाद बृहस्पतिवार की संध्या छठ व्रती खरना करेंगी। जबकि ,शुक्रवार को पहला अर्ध्य और शनिवार को उगते सुर्य को अर्ध्य देने के साथ ही छठ व्रत संपन्न हो जायगा। इस चार दिवसीय अनुष्ठान को लेकर मंगलवार को नहाय खाय के लिए बाजारों में कद्दू की जमकर खरीददारी हुई। व्रती परंपरा के अनुसार नहाय -खाय के दिन छठ व्रती स्नान कर पवित्र होकर कद्दू, अरवा चावल एवं चना दाल का पहले दिन प्रसाद बनाकर खाएंगे।

इसको लेकर मंगलवार को बाजारों में कद्दू सब्जी की जमकर खरीददारी हुई। बाजार में छठ पर्व के मदेनजर कद्दू का डिमांड ज्यादा होने के कारण 50 से 60 रुपए किलो तक बेचा गया ।
रेडीमेड मिट्टी के चूल्हे की भी हुई बिक्री 
छठ पर्व के मदेनजर लोग मिट्टी के बर्तनों के साथ ही सुप दउरा की खरीददारी करते हुए लोग देखे गए । वहीं,छठव्रती मिट्टी का चूल्हा बनाती नजर आई। जबकि ,बाजारों में रेडीमेड चूल्हे की भी बिक्री करते हुए देखा गया । ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाएं खुद मिट्टी का चूल्हा बनाते और छठ के गीत गाती दिखी। 

गंगा स्नान को दिखी भारी भीड़
छठ पर्व के पहले जिले से बड़ी तादाद में महिलाएं गंगा स्नान को आसपास के निकटवर्ती जिलों मुंगेर पटना के बाढ़ ,बढ़हिया आदि गंगा घाटों के लिए रवाना हुई। गंगा स्नान के लिए दर्जनों महिलाएं एक साथ एकत्रित होकर रिजर्व गाड़ी से जाती हुई देखी गईं । वहीं,कई धर्म प्रेमी श्रद्धालू छठव्रतियों को बस रिजर्व कर मुफ्त गंगा स्नान के लिए ले गए ।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *